शकरपारे

साझा करें
See this recipe in English

शकरपारे, मारवाड़ी/ राजस्थानी व्यंजन है. जैसा कि नाम से ही जाहिर है यह एक मीठा व्यंजन है, जिसे कि धीमी आँच तलकर तैयार किया जाता है. इसके बाद इसे चाशनी में डालते हैं. शकरपारे सभी को बहुत पसंद आते हैं और बनाना भी आसान है. तो इस बार आप होली में बनाइए शकरपारे......

shakarpare
सामग्री
  • मैदा 1 कप
  • आटा 1 कप
  • घी 4 बड़े चम्मच, मोयन के लिए
  • घी तलने के लिए
  • पानी ½ कप आटा गूथने के लिए
चाशनी के लिए
  • शक्कर 1 कप
  • पानी ½ कप
  • इलायची 1

बनाने की विधि :

चाशनी बनाने की विधि

  1. पानी और शक्कर को कड़ाही मे उबालिए. पहले उबाल के बाद आँच को धीमा कर दीजिए और चाशनी के गाढ़ा होने तक पकाइए. इस प्रक्रिया में तकरीबन ७-८ मिनट लगते हैं.( इस पाग के लिए दो तार की चाशनी उपयुक्त रहेगी. दो तार के चाशनी को जाँचने के लिए अपनी दो उंगलियों के बीच में एक बूँद चाशनी को लेकर खीचिए, अगर उंगलियों के बीच में दो तार बनें तो चाशनी बिल्कुल ठीक है.)
  2. हरी इलायची के छिलके उतारकर बीज को दरदरा कूट लें.
  3. अगर आप इलायची डाल रहें हैं तो उसे भी डाल लें चाशनी में.
  4. चाशनी अब तैयार है.
sugar syrup
चाशनी

पारे बनाने की विधि

  1. एक परात/ कटोरे में आटा, मैदा, और गरम घी लें. घी को मैदे में अच्छे से मिला हथेली में रगड़ें. मिलाने के बाद आप देखेगें की मोयन की वजह से मुट्ठी में भरने पर मैदा का लड्डू जैसा बँध जाता है. यह इस बात कि पहचान है कि मोयन ( घी/ तेल) एकदम ठीक मात्रा में है.
all purpose flour with oil, and salt rubbed all purpose flour with other ingredients
घी , आटा, और मैदा                                                         सभी सामग्री मिलाने के बाद
  1. अब थोड़ा-थोड़ा पानी डालते हुए कड़ा आटा गूँथ लें. गुथे आटे को गीले कपड़े से ढककर 15-20 मिनट के लिए ढककर रखें. .
stiff dough  5 big balls
पानी डालते हुए आटा गूथना                                                          तैयार कड़ा गुथा आटा
  1. 15-20 मिनट के बाद आप देखेंगें कि आटा काफ़ी चिकना हो जाता है. अब इसको 5 बराबर भागों में बाट लें.
  2. अब तेल/ घी की मदद से लगभग 6-7 इंच की बड़ी पूरी जैसी बेलें.
  3. अब इस बिली हुई पूरी को आधे इंच चौड़ी पतली-पतली पत्तियाँ काट लें और फिर बेड़ा करके लगभग डेढ़ इंच के टुकड़े काट लें जैसा कि फोटा में दिखाया गया है.
  4. आप चाहें तो बरफी या फिर अलग किसी आकार के भी काट सकते है शकरपारे.
  5. अब एक कड़ाही में घी गरम करें और मध्यम से धीमी आँच पर पारे को गुलाबी होने तक तलें. इस प्रक्रिया में लगभग 10 मिनट का समय लगता है.
  6. शकरपारे किचन पेपर पर निकाल लें.
rolled ball verticaly cut namakpare
कटे हुए पारे                                                             पारों को घी में डालने के बाद
  1. अब इन तले पारों को गरम चाशनी डालें और अच्छे से चाशनी लपेटते हुए तुरंत निकाल लें..
shakarpare
पारों को चाशनी में डालने के बाद
  1. अब इन चाशनी में डूबे पारों को थाली में फ़ैलाएँ.
  2. शकरपारों को ठंडा होने दें.
mathri
पारों को थाली में फैलाने के बाद
  1. शकर पारों को दो हफ्ते तक बिना फ्रिज के रखा जा सकता है.
mathri

शकरपारों को आप पहले से बनाकर रख सकते हैं. इनको कभी भी सर्व किया जा सकता है. शकरपारों को एयर-टाईट डब्बे में दो हफ्ते तक रखा जा सकता है.

कुछ नुस्खे और सुझाव

तलने के लिए हमेशा कम से कम घी से कड़ाही भरें. तला हुआ घी दोबारा कम से कम इस्तेमाल करना पड़े, तो यह स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छा है.

कुछ और मिठाइयाँ