सामग्री
(18 मिनी बालूशाही के लिए) चाशनी के लिए
सजाने के लिए

मिनी बालूशाही

See this recipe in English

बालूशाही एक बहुत ही प्रसिद्ध उत्तर भारतीय मिठाई है तो भारत में मुगलों से समय से आई है. अपने नाम के अनुरूप यह एकदम शाही मिठाई है जो सही तरीके से बनी हो तो मुँह में रखते ही घुल जाती है. वैसे अगर आप बाजार में देखेगें तो बालूशही देखने में भी किंग साइज़ होती है. लेकिन मैं आमतौर पर घर पर मिनी यानि कि छोटी मिठाइयाँ बनाना पसंद करती हूँ जिससे चीज़ की बर्बादी भी ना हो और खाने वाले को अगर मिठाई पसंद आती है तो वो दूसरी या फिर तीसरी ले ले....

balushahi

बनाने की विधि

चाशनी बनाने की विधि

  1. पानी और शक्कर को कड़ाही मे उबालिए. पहले उबाल के बाद आँच को धीमा कर दीजिए और चाशनी के गाढ़ा होने तक पकाइए. इस प्रक्रिया में तकरीबन 10 मिनट लगते हैं.( इस पाग के लिए दो तार की चाशनी उपयुक्त रहेगी. दो तार के चाशनी को जाँचने के लिए अपनी दो उंगलियों के बीच में एक बूँद चाशनी को लेकर खीचिए, अगर उंगलियों के बीच में दो तार बनें तो चाशनी बिल्कुल ठीक है.)
  2. हरी इलायची के छिलके उतारकर बीज को दरदरा कूट लें. अब कुटी इलायची को चाशनी में मिला दें. चाशनी अब तैयार है.

बालूशाही बनाने की विधि

  1. एक परात में मैदा और बेकिंग सोडा (खाने वाला सोडा) को एक साथ छान लें.
  2. अब इसमें घी मिलाएँ और अच्छे से दोनों हथेली के बीच में लेकर मिलाएँ.
  3. अब इसमें दही डालकर अच्छे से मिलाएँ और कड़ा आटा गूथें. अगर ज़रूरत हो तो एक छोटा चम्मच पानी मिलाएँ. मुझे ज़रा सा पानी डालना पड़ा था आटा गूथने के लिए पर यह मैदा की क्वालिटी पर भी निर्भर करता है...
  4. अब इस आटे को गीले कपड़े से ढककर लगभग 1 घंटे के लिए अलग रखें.
  5. अब इस आटे को 18 भागों में बाटे. इनकी लोइयाँ बनाइए. अब लोई को दोनों हथेली के बीच में दबाकर चपटा करिए. बीच में अंगूठे से दबाकर निशान बनाइए.
balushahi
बालूशाही अब तैयार हैं टलने के लिए
  1. अब एक कड़ाही में धीमी आँच पर घी गरम करें. घी का तापमान 160°F/ 70°C से अधिक नही होना चाहिए. अब इसमें आहिस्ता से बालूशाही डालें और धीमी आँच पर इसको गुलाबी-लाल होने तक तलें. इस प्रक्रिया में लगभग 20-25 मिनट का समय लगता है.
balushahi
  1. बालूशाही को घी से निकालकर किचन पेपर पर निकाल लें. अब बालूशाही को थोड़ा ठंडा होने दीजिए. इसमें लगभग 15 मिनट का समय लगता है.
  2. अब बालूशाही को हल्की गरम चाशनी में डालें और लगभग आधा घंटे के लिए चाशनी में पड़ी रहने दें जिससे बालूशाही अंदर तक चाशनी सोख लें. अगर चाशनी एकदम ठंडी हो जाए तो इसे धीमी आँच हल्का सा गरम कर लें.
balushahi
चाशनी में डालने के बाद बालूशाही
  1. बालूशाही को चाशनी से निकालकर प्लेट पर रखें सूखने के लिए.
  2. बालूशाही जब सूख जाएगी तो इसके ऊपर सूखी सफेद लेयर दिखेगी शक्कर की. यही पहचान है कि बालूशाही तैयार है परोसने के लिए......
balushahi
बालूशाही अब तैयार है

शाही मिठाई बालूशाही अब तैयार है आपके शाही मेहमानों के लिए. बालूशाही को कटे पिस्ता से सजाकर परोसें. बालूशाही को एक हफ्ते तक बिना फ्रिज के रखा जा सकता है.

कुछ नुस्खे और सुझाव

तलने के लिए हमेशा कम से कम घी से कढ़ाई भरें. तला हुआ घी दोबारा कम से कम इस्तेमाल करना पड़े, तो यह स्वास्थ्य की दृष्टि से अच्छा है.

कुछ और मिठाइयाँ