मकर संक्रांति विशेष!

Share
See this page in English

प्रिय पाठकों,

मकर संक्रांति का पर्व 14 जनवरी को मनाया जाता है. मकर संक्रांति को खिचड़ी के नाम से भी जाना जाता है और यह त्यौहार पूरे भारत में मनाया जाता है. माघ महीने में पड़ने वाला यह त्यौहार संपूर्ण भारत वर्ष में मनाया जाता है. इस दिन सूर्य धनु से मकर राशि में जाता है. इस दिन गंगा में स्नान करने को भी शुभ माना जाता है.

मकर संक्रांति के दिन दान करने की परंपरा है. दान करने वाली सामग्री में मुख्य रूप से खिचड़ी (दाल+चावल), गुड, तिल, इत्यादि हैं. उत्तर भारत के कुछ प्रदेशों में विवाहित महिलाएँ 14 चीज़ें दान करती हैं अपनी श्रद्धा और बजट के मुताबिक, जैसे की, साडी, बर्तन, खाने की सामग्री या फिर कुछ और..... बहुत सारे परिवारों में 14 अलग-अलग तरह के लड्डू बनाने की भी प्रथा है.

इसी समय पंजाब में लोहडी का त्यौहार भी मनाया जाता है, और दक्षिण भारत में पोंगल. तो इस त्यौहार पर चलिए हम भी बनाते हैं कुछ तिल से बनने वाले पारंपरिक और कुछ समकालीन व्यंजन......

संक्रांति की आप सभी को शुभकामनाएँ ,
शुचि

  •  til-ki-barfi

    तिल की बर्फी

    आयुर्वेद में तिल की बहुत प्रशंसा की गयी है. तिल में कैल्शियम बहुतायत में होता है, इसके साथ ही साथ इसमें फासफ़ोरस और कई प्रकार के खनिज और विटामिन भी होते हैं. तिल की बर्फी उत्तर भारत में सकट चौथ और संक्रांति पर बनाई जाती है. आप गुड़ के स्थान पर शक्कर का प्रयोग भी कर सकते हैं. इस बर्फी को बनाना बहुत आसान है. मैंने इसमें ऊपर से पिस्ता सजाया है जिससे बच्चे भी इसे खूब पसंद करते हैं..आगे पढ़ें...

कुछ और स्वादिष्ट मिठाइयाँ