सिंघाड़े की नमकीन बर्फी

साझा करें
See this recipe in English

सिंघाड़े में कार्बोहाइड्रेट, स्टार्च, विटामिन बी -6, रिबॉफ्लेविन आदि प्रचुर मात्रा में होता है. यह कच्चा भी खाया जाता है, और उबाल कर भी. सिंघाड़े का आटा भी बाजार में आसानी से मिल जाता है. सिंघाड़े और इसके आटे के नाना प्रकार के व्यंजन उपवास के दिनों में बनाए जाते हैं. आज हम सिघदे की नमकीन बरफी बनाना बता रहे हैं अगर आपको बरफी बनाना कठिन लग रहा है तो आप सिंघाड़े के आटे का नमकीन हलवा भी बना सकते हैं.......


singhare ki namkeen burfi
 सामग्री
(16-18 बर्फी के लिए)
  • सिंघाड़े का आटा ¾ कप
  • खट्टा दही ¾ कप
  • हरी मिर्च 2-4
  • सेंधा नमक ¾ छोटा चम्मच/ स्वादानुसार
  • घी/ तेल 1½ बड़ा चम्मच
  • पानी लगभग 1 कप
  • नीबू का रस स्वादानुसार

बनाने की विधि :

  1. एक कड़ाही में आधा बड़ा चम्मच तेल गरम करें, उसमें सिंघाड़े का आटा डालें और मध्यम आँच पर आटे को सुनहरा होने तक भूनें. इस प्रक्रिया में 10-12 मिनट का समय लगता है.
singhare ki namkeen burfi
  1. एक थाली या फिर ट्रे की तली को कुछ बूंदे घी की लगाकर चिकना करके अलग रखें.
  2. हरी मिर्च का डंठल हटा कर और उसे अच्छे से धो कर महीन-महीन काट लें.
  3. दही को अच्छे से फेटें. अब इसमें तकरीबन १ कप पानी मिलाएँ.
  4. एक कड़ाही में बचा हुआ तेल मध्यम आँच पर गरम करे. अब इसमें कटी हरी मिर्च डालें. कुछ सेकेंड्स भूनें और फिर दही का घोल डालें.
singhare ki namkeen burfi
  1. एक उबाल आने दे. अब इसमें भुना आटा, और नमक डालें और सभी सामग्री को अच्छे से मिलाएँ. अब इसे बराबर चलाते हुए पकाएँ. आटे को पकने में ३-४ मिनट का समय लगता है. आटा सारा पानी सोख लेता है और यह हलुए के जैसे दिखने लगता है.
  2. अब आँच बंद कर दीजिए. अब इसमें नीबू का रस मिलाएँ.
singhare ki namkeen burfi
  1. अब मिश्रण को पहले से चिकनी करी थाली में आधा इंच मोटी परत में बराबर से फ़ैलाएँ. आप घी लगाकर चिकने करे बेलन की मदद से भी इसे बराबर कर सकते हैं.
singhare ki namkeen burfi
  1. थोड़ी देर के लिए ठंडा होने दें. इसमें तकरीबन 8-10 मिनट का समय लगता है. बरफी को मनचाहे आकर में काट लें.
singhare ki namkeen burfi

इस स्वादिष्ट सिंघाड़े की नमकीन बर्फी को आप फलाहारी चटनी या फिर दही के आलू के साथ परोस सकते हैं.

कुछ नुस्खे / टिप्स :

सिंघाड़े की नमकीन बर्फी बनाने के लिए दही खट्टा होना चाहिए.

kuttu ki pakaudi phalahari bhel vrat ke aloo