नवमी की पूजा के लिए विशेष!

See this page in English

इस वर्ष नवमी का पर्व २९ सितम्बर को है. कुछ लोग आठ दिन के उपवास के बाद नवें दिन नौ कन्याओं को खाना खिलाने के बाद नवमी को उपवास खोलते हैं. वही कुछ लोग पड़वा और अष्टमी का व्रत रखते हैं और फिर नवमी को कन्या खिलाते हैं. आठ दिन के उपवास के बाद नवमी की पूजा में किसी भी और पूजा की तरह, बहुत पारंपरिक खाना बनता है और प्याज और लहसुन का प्रयोग नहीं किया जाता है. आमतौर पर भोग के लिए और कन्या को खिलाने के लिए हलवा पूड़ी बनती है जिसे प्रसाद के तौर पर पास पड़ोस में भी बाटा जाता है.

जहाँ तक खाने का सवाल है, खाने में एक या फिर दो सूखी सब्जी, एक रसे की सब्जी, रायता और पूरी-कचौरी बनाई जाती है. उत्तर भारत में मैने कभी भी पूजा के लिए दाल और चावल बनते नहीं देखे हैं. वैसे आप प्यार और श्रद्धा से जो भी प्रभु को अर्पित करें वो स्वीकार किया जाता है, इसीलिए ज़रूरी नही कि आप छप्पन पकवान ही बनाएँ प्रभु के भोग के लिए, ज़रूरत है तो बस श्रद्धा की.....तो इस शुभ मौके पर चलिए बनाते हैं कुछ व्यंजन भोग के ......

pooja ka khana

नवमी की सभी पाठको को हार्दिक शुभकामनाएँ,
शुचि


poori sabji thali

ऊपर लगी थाली की फोटो में भिन्डी की सब्जी, बूंदी का रायता, सूजी का हलवा, आलू टमाटर की रसेदार सब्जी और पूरियां हैं.


Navmi pooja khana

some photos for and party organization/ bulk cooking.